Digital clock

Sunday, 20 January 2013

3206 शिक्षकों की पदोन्नति पर सहमति की कवायद जागरण ब्यूरो, चंडीगढ़ : प्रदेश के 3206 जेबीटी शिक्षक जहां अपनी नौकरी पर तलवार लटके जाने से आशंकित हैं, वहीं शिक्षा विभाग उन्हें पदोन्नति देने की जोरशोर से तैयारी करने में जुटा हुआ है। शिक्षा निदेशालय ने जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को जेबीटी तथा सीएंडवी शिक्षकों को पदोन्नति केस 21 जनवरी को लेकर पहुंचने के निर्देश दिए हैं।



3206 शिक्षकों की पदोन्नति पर सहमति की कवायद
जागरण ब्यूरो, चंडीगढ़ : प्रदेश के 3206 जेबीटी शिक्षक जहां अपनी नौकरी पर तलवार लटके जाने से आशंकित हैं, वहीं शिक्षा विभाग उन्हें पदोन्नति देने की जोरशोर से तैयारी करने में जुटा हुआ है। शिक्षा निदेशालय ने जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को जेबीटी तथा सीएंडवी शिक्षकों को पदोन्नति केस 21 जनवरी को लेकर पहुंचने के निर्देश दिए हैं।
गौरतलब है कि इन शिक्षकों की पदोन्नति के बारे में शिक्षा विभाग को हाईकोर्ट में 27 जनवरी तक जवाब दाखिल करना है। उच्च न्यायालय में दायर कैथल के रोशन लाल पंवार बनाम हरियाणा सरकार मामले ने भी शिक्षा विभाग की नींद हराम कर दी है। शिक्षा विभाग द्वारा इस संबंध में सभी जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों को जारी पत्र क्रमांक 15/82-2011 एचआरएम-1(2) दिनांक 15 जनवरी के संदर्भ में निर्देश दिए गए हैं कि विभाग द्वारा वर्ष 2000 में नियुक्त जेबीटी तथा सी एंड वी अध्यापकों के पदोन्नति संबंधी जो मामले विभाग द्वारा सभी जिलों में वापस भेज दिए गए थे, उन सभी मामलों को लेकर जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी तथा संबंधित सहायक 21 जनवरी को 11 बजे निदेशालय पहुंचे, ताकि न्यायालय द्वारा पारित आदेशानुसार इन अध्यापकों की पदोन्नति के बारे में पूरी रिपोर्ट तैयार की जा सके।
इसलिए गए थे जेबीटी शिक्षक हाईकोर्ट : वर्ष दो हजार में नियुक्त जेबीटी अध्यापकों को वर्ष 2008 तक लगभग सभी जिलों में हिंदी, संस्कृत तथा मुख्य शिक्षक पदों पर पदोन्नति नियमानुसार दी जा रही थी

मैं शिक्षक वर्ग का तहेदिल से सम्मान करता हूं : बिश्नोई
जागरण संवाद केंद्र, हिसार : हरियाणा जनहित कांग्रेस के अध्यक्ष एवं सांसद कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि वे शिक्षक वर्ग का पूरा मान-सम्मान करते हैं तथा उन्हें देश का भविष्य निर्माता मानते हैं। उन्होंने कभी भी शिक्षकों के लिए अशोभनीय भाषा का प्रयोग नहीं किया। उन्होंने कहा कि उन्होंने जेबीटी टीचर भर्ती घोटाले के मामले में केवल भर्ती प्रक्रिया पर सवालिया निशान उठाए थे। उनके कथन को दूसरे रूप में पेश किया गया है। सांसद ने कहा कि उन्होंने शिक्षकों के मान-सम्मान के खिलाफ कोई शब्द नहीं कहा फिर भी यदि उनकी किसी बात से अध्यापक वर्ग या किसी भी हरियाणावासी को दु:ख या पीड़ा हुई है तो वे इसके लिए क्षमा प्रार्थी हैं। कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि शिक्षक के हाथों ही एक स्वस्थ समाज व उन्नतिशील देश का निर्माण होता है। इसलिए वे शिक्षक वर्ग का तहेदिल से मान-सम्मान करते हैं।



No comments:

Post a Comment