Digital clock

Monday, 11 February 2013



शिक्षा बचाओ सम्मान बचाओ रैली में अध्यापकों ने बहाया पसीना

जासंकें, कैथल : राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ द्वारा निजीकरण के विरोध व अपनी मांगों के समर्थन में की गई रोहतक रैली को कामयाब बनाने के लिए जिला प्रधान रोशन लाल पंवार ने प्राथमिक शिक्षकों का आभार जताते हुए बताया कि सरकारी स्कूलों को एनजीओ के हाथों सौंपने के विरोध में राज्यस्तरीय रैली के माध्यम से सरकार को कठघरे में खड़ा किया।
यहां जारी बयान में उन्होंने कहा कि सरकार स्कूलों में बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने के बजाय शिक्षा की अपनी जिम्मेदारी से बचना चाहती है। जिला वरिष्ठ उपप्रधान राजेश बेनीवाल ने कहा कि सरकार द्वारा वर्ष 2000 में लगे अध्यापकों को पदोन्नति सहित अन्य लाभ नहीं दिए जा रहे हैं। उन्होनें मांग की कि प्राथमिक स्कूलों में मुख्यशिक्षक का पद स्वीकृत किया जाए और छात्र संख्या की शर्त समाप्त की जाए। जेबीटी अध्यापकों को मिडल हेड और प्रवक्ता पद पर पदोन्नति में कोटा दिया जाए, डीएड छात्रों की इंटर्नशिप बंद की जाए, स्कूलों में पड़े रिक्त पदों को स्थायी भर्ती द्वारा तुरंत भरा जाए। उन्होंने कहा कि यदि सरकार 17 फरवरी तक इन मांगों को पूरा नहीं करती तो प्राथमिक शिक्षक संघ 18 फरवरी से शिक्षा सदन पंचकूला में क्रमिक अनशन शुरू करेगा।


No comments:

Post a Comment